बिहार की कलाकृतियों

बिहार अपनी पारंपरिक कलाकृतियों के लिए जाना जाता है । मिथिला पेन्टिंग, पटना कलम, सींक कला, भागलपुर सिल्क आदि यहाँ की हस्त कलाओं के कुछ नमूने हैं ।

मिथिला पेन्टिंग

मिथिलांचल की औरतें पारंपरिक रूप से सब्ज़ियों और अन्य प्राकृतिक रंगों से दीवारों पर कृतियाँ बनाती हैं । लेकिन अब ये कृतियाँ कपड़ों पर भी बनाई जाती हैं और पूरे भारत में ये कला मशहूर है । इसमें मुख्यतः देवी-देवता, पशु-पक्षी और मनुष्यों के चित्र बनाए जाते हैं ।

सींक कला

बिहार के कलाकार सींक से विभिन्न वस्तुएं बनाते हैं जो यहाँ हर घर में इस्तेमाल किए जाते हैं। इसमें मुख्यतः छोटी छोटी टोकरियाँ और सजावट के सामान बनाए जाते हैं ।

भागलपुर सिल्क

भागलपुर में बनाए जाने वाले तसर सिल्क को 2009 में भारत सरकार ने भौगोलिक मान्यता प्रदान की है। भागलपुर सिल्क पूरे भारत में बहुत मशहूर है ।



पटना कलम


पटना कलम मुगल काल के दौरान बिहार में विकसित विशेष चित्रशैली है जिस में आम दिनचर्या का चित्रण किया जाता है । इस शैली में मुख्यतः कागज़ और हाथी दाँत पर चित्र बनाए जाते हैं ।

<< Back

Advertisments